पूज्य गुरुदेव के संकल्प

पूज्य गुरुदेव के संकल्प

जो अपने लिए ना जी कर दूसरों के लिए जीएं, अपना पूरा समय मानवता की सेवा और सनातन धर्म के उत्थान के लिए दें, ऐसे महापुरुष का हमारी इस पावन धरती पर होना गर्व की बात है। पूज्य गुरुदेव के संकल्पों ने मानव कल्याण की परिभाषा को एक नया आयाम दिया है। ना जाति, ना धर्म और ना समुदाय…बिना किसी भेदभाव के जो मानव सेवा को भी अपना धर्म समझे ऐसे संत को नमन। आइए इस संकल्पों के बारे में जानते हैं।
पूज्य गुरुदेव
अन्नपूर्णा रसोई

अन्नपूर्णा रसोई -BAGESHWAR DHAM

पूज्य महाराजश्री का संकल्प है कि धाम पर आने वाला कोई भी शख्स भूखा ना रहे, इसलिए धाम में अन्नपूर्णा रसोई की शुरुआत की गई, जहां हर रोज हजारों और मंगलवार-शनिवार को तो लाखों लोगों के लिए नि:शुल्क भोजन प्रसाद की व्यवस्था की जाती है। खास बात तो ये हैं कि अन्नपूर्णा रसोई की सारी व्यवस्था धाम पर आने वाली चढोत्री के आधे हिस्से और दान की राशि से की जाती है।

गरीब और बेसहारा कन्याओं का विवाह

पूज्य गुरुदेव हमेशा कहते हैं कि जिनका कोई नहीं उनके लिए बागेश्वर बालाजी महाराज हैं। आज बागेश्वर धाम की तरफ से प्रतिवर्ष कई गरीब और बेसहारा कन्याओं का विवाह पूरे रीति-रिवाज के साथ करवाया जाता है। साथ ही धाम की तरफ से बेटी को गृहस्थी में उपयोग होने वाला हर सामान उपहार स्वरुप दिया जाता है।

गरीब और बेसहारा कन्याओं का विवाह
गौ रक्षा

गौ रक्षा - BAGESHWAR DHAM

हमारे देश में गाय को माता की तरह पूजा जाता है और इसका मान दुनियाभर के हिन्दू करे इसके लिए पूज्य गुरुदेव ने नारा दिया है – “गौशाला नहीं उपाय, एक हिन्दू…एक गाय”। गुरुदेव का मानना है कि अगर आप एक गाय नहीं भी रख सकते हैं तो अगर आपके आसपास कोई गरीब गाय पाल रहा है तो आप हर महीने उसे ही कुछ धनराशि दे दें ताकि वह गरीब गाय को भरण – पोषण कर सके और उस गाय से जो दूध हो उससे अपने परिवार का भरण – पोषण कर पाएगा।

बागेश्वर बागीचा- BAGESHWAR DHAM

दुनियाभर में इन दिनों पर्यावरण की रक्षा के लिए कई जरुरी कदम उठाए जा रहे हैं। यहां तक की कोरोना के समय देश में ऑक्सीजन को लेकर जो त्रासदी मची उसे भी झेला। पर्यावरण में ऑक्सीजन रहे उसके लिए पेड़ों का संरक्षण जरुरी है। तभी तो महाराजश्री ने पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया और देशभर में बागेश्वर बागीचा बनाने का फैसला किया। मध्य प्रदेश सहित देश के कई हिस्सों में कई बागेश्वर बागीचा का निर्माण भी किया जा चुका है।

बागेश्वर बागीचा
वैदिक गुरुकुल

वैदिक गुरुकुल- BAGESHWAR DHAM

पूज्य गुरुदेव की सोच है कि भारतीय संस्कृति और संस्कृत भाषा का प्रचार-प्रसार दुनियाभर में हो। बागेश्वर धाम के प्रांगण में एक वैदिक गुरुकुल की स्थापना की जा रही है, जहां बच्चों को आधुनिक शिक्षा के साथ साथ वेदों का भी ज्ञान दिया जाएगा।